क्षेत्र

नईदिल्ली:तीनतलाककेबादसुप्रीमकोर्टअबमुस्लिमसमाजमेप्रचलितनिकाहहलालाऔरबहुविवाहपरभीसुनवाईकरेगा.इनकीवैधताकोचुनौतीदेनेवालीयाचिकाओंपरआजकोर्टनेकेंद्रसरकारसेजवाबमांगा.

अबतककुल4याचिका

चीफजस्टिसकीअध्यक्षतावालीबेंचनेआजकुल4याचिकाओंपरसुनवाईकी.येयाचिकाएंदिल्लीकीसमीनाबेगमऔरनफीसाखान,वकीलअश्विनीउपाध्यायऔरहैदराबादकेमोहसिनबिनहुसैननेदाखिलकीहैं. इनयाचिकाओंमें4तरहकीप्रथाओंकोअवैधकरारदेनेकीमांगकीगईहै.

1.बहुविवाह-पुरुषोंकोएकबारमें4तकशादीकरनेकीइजाज़त.

2.निकाहहलाला-तलाकशुदामुस्लिममहिलाकोअपनेपतिसेदोबाराशादीकरनेकेलिएपहलेकिसीऔरपुरुषसेशादीकरनीपड़तीहै,शारीरिकसंबंधबनानेपड़तेहैं.फिरनएपतिसेतलाकलेनेकेबादपहलेपतिसेशादीहोसकतीहै.

3.निकाहएमुताह-शियामुसलमानोंकेएकवर्गमेंप्रचलितकांट्रेक्टमैरिज.इसमेंएकतयसमयकेलिएहीशादीहोतीहै.इसकेबादमहिलाऔरउसकेबच्चोंकाजीवन-यापनउसकेपतिकीज़िम्मेदारीनहींरहजाती.

4.निकाहएमिस्यार-सुन्नीमुसलमानोंकेएकहिस्सेमेंमान्यकांट्रेक्टमैरिज.काफीहदतकनिकाहएमुताहसेमिलता-जुलताहै.

संविधानकेखिलाफबताया

याचिकाओंमेंसंविधानकेअनुच्छेद14,15और21काहवालादियागयाहै.अनुच्छेद14और15हरनागरिककोसमानताकाअधिकारदेतेहै.यानीजातिधर्म,भाषायालिंगकेआधारपरभेदभावनहींकियाजासकता.जबकि,अनुच्छेद21हरनागरिककोसम्मानकेसाथजीनेकाहकदेताहै.

याचिकाकर्ताओंकेमुताबिकहलालाऔरबहुविवाहजैसेप्रावधानमुस्लिममहिलाओंकेसाथभेदभावकरतेहैं.उन्हेंसंविधानसेमिलेमौलिकअधिकारोंसेवंचितकरतेहैं.इसलिएउन्हेंबराबरीऔरसम्मानदिलानेकेलिएसुप्रीमकोर्ट1937केमुस्लिमपर्सनललॉएप्लीकेशनएक्टकेसेक्शन2कोअसंवैधानिककरारदे.इसीसेक्शनमेंइनप्रावधानोंकाज़िक्रहै.

संविधानपीठमेंहोगीसुनवाई

सुप्रीमकोर्टनेपहलेतीनतलाक,बहुविवाहऔरहलालाकीसुनवाईसंविधानपीठमेंएकसाथकरनेकाआदेशदियाथा.लेकिनपिछलेसालजब5जजोंकीसंविधानपीठबैठी,तोउसनेसिर्फ3तलाकपरसुनवाईकी.संविधानपीठनेआदेशमेंदर्जकियाकिबाकीदोविषयोंपरअलगसेसुनवाईहोगी.

आजचीफजस्टिसकीअध्यक्षतावालीबेंचनेपुरानेआदेशकोदेखतेहुएयाचिकाओंकोसुनवाईकेलिएमंज़ूरकरलिया.अबमामलेकीविस्तृतसुनवाईकेलिएसंविधानपीठकागठनहोगा.इसमेंकुछमहीनोंकावक्तलगसकताहै.

तलाकएबिद्दतरद्दकरचुकाहैकोर्ट

पिछलेसाल22अगस्तकोपांचजजोंकीबेंचनेएकसाथतीनबारतलाकबोलकरशादीखत्मकरनेकेचलनकोअसंवैधानिककरारदिया.तलाकएबिद्दतकेनामसेपहचानीजानेवालीइसव्यवस्थाकोसुन्नीमुसलमानोंकाएकबड़ावर्गमान्यतादेताथा.इसकेतहतपतिजबचाहेपत्नीतीनबारतलाककरउससेरिश्ताखत्मकरसकताथा. सुप्रीमकोर्टकेइसफैसलेकेमद्देनज़रयाचिकर्ताओंकाफीउम्मीदेंहैं.उन्हेंलगताहैकिमहिलाओंसेभेदभावकरनेवालीदूसरीव्यवस्थाओंकोभीकोर्टगैरकानूनीकरारदेगा.

By Dean